Monday, April 18, 2011

मेरे चारागर को नवेद हो, सफ़-ए-दुश्मना को खबर करो


उर्दू के शीर्षस्थ शायरों में शुमार होता है फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ का. आज सुनिए इक़बाल बानो से उनकी यह मास्टरपीस ग़ज़ल:



न गंवाओ नावक-ए-नीमकश, दिल-ए-रेज़ा रेज़ा गंवा दिया
जो बचे हैं संग समेट लो, तन-ए-दाग़-दाग़ लुटा दिया

मेरे चारागर को नवेद हो, सफ़-ए-दुश्मना को खबर करो
जो वो क़र्ज़ रखते थे जान पर, वो हिसाब आज चुका दिया

जो रुके तो कोह-ए-गरां थे हम, जो चले तो जां से गुज़र गए
रह-ए-यार हम ने क़दम क़दम, तुझे यादगार बना दिया

3 comments:

इस्मत ज़ैदी said...

जो रुके तो कोह-ए-गरां थे हम, जो चले तो जां से गुज़र गए
रह-ए-यार हम ने क़दम क़दम, तुझे यादगार बना दिया

faiz ki behtareen shaeri aur us par iqbal bano ki awaz ,kamal ka combination hai ,
maza aa gaya .
shukriya

नीरज बसलियाल said...

दिल-ए-रेज़ा रेज़ा गंवा दिया ...


जिंदगी बड़ी तेज़ी से खत्म होती महसूस हो रही है |

हमारीवाणी said...

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि


हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ