Monday, April 11, 2011

इक उम्र का रोना है दो दिन की शनासाई


उस्ताद मेहदी हसन ख़ान साहेब से सुनिये शहज़ाद अहमद का कलाम



जल भी चुके परवाने हो भी चुकी रुसवाई
अब ख़ाक उड़ाने को बैठे हैं तमाशाई

तारों की ज़िया दिल में एक आग लगाते हैं
आराम से रातों को सोते नहीं सौदाई

रातों की उदासी में ख़ामोश है दिल मेरा
बेहिस हैं तमन्नाएं नींद आये के मौत आई

अब दिल को किसी करवट आराम नहीं मिलता
इक उम्र का रोना है दो दिन की शनासाई

2 comments:

daanish said...

रातों की उदासी में ख़ामोश है दिल मेरा
बेहिस हैं तमन्नाएं नींद आये के मौत आई

gazal ,
Janaab Mehandi Hasan sb ki
aawaaz mei sun kar
lutf mil gayaa ...
echo-effects zraa zyaada aa rahe hain..... !?!

pratibha said...

bahut khoob!